36+ Best Dr. B. R. Ambedkar Quotes in Hindi

ambedkar jayanti quotes, dr. bheem rao ambedkar quotes in hindi, ambedkar jayanti 2022 wishes, ambedkar ke vichar, ambedkar shayari, डॉ भीम राव अंबेडकर के विचार, अंबेडकर चर्चित कोट्स, अंबेडकर स्टेटस, ambedkar quotes, ambedkar status, ambedkar jayanti 2022

Dr. B. R. Ambedkar Quotes in Hindi: नमस्ते दोस्तों! आज के इस ब्लॉग पोस्ट में हम बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर के प्रेरणादायक विचारों को साझा करेंगे। डॉ. बी.आर. अम्बेडकर भारतीय संविधान निर्माता और समाज सुधारक थे, और उनके विचार आज भी हमें प्रेरित करते हैं। इस पोस्ट में हम उनके 36+ प्रसिद्ध उद्धरणों को संग्रहित किया है, जो आपको सोचने और प्रेरित करने में मदद करेंगे। चलिए, आइए इन अद्भुत विचारों का आनंद लें और अपने जीवन को संदेशों से समृद्ध करें।

Top 36 Dr. B. R. Ambedkar Quotes in Hindi

मैं एक समुदाय की प्रगति को महिलाओं द्वारा हासिल की गई प्रगति के स्तर से मापता हूं।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

एक महान व्यक्ति एक प्रतिष्ठित व्यक्ति से इस मायने में भिन्न होता है कि वह समाज का सेवक बनने के लिए तैयार रहता है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

हम भारतीय हैं, सबसे पहले और अंत में।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

मन की साधना मानव अस्तित्व का अंतिम लक्ष्य होना चाहिए।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

मुझे वह धर्म पसंद है जो स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व सिखाता है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

पति-पत्नी का रिश्ता सबसे करीबी दोस्तों में से एक होना चाहिए।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

Ambedkar Quotes in Hindi About Thoughts

कानून और व्यवस्था राजनीतिक शरीर की दवा है और जब राजनीतिक शरीर बीमार हो जाता है, तो दवा दी जानी चाहिए।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

पुरुष नश्वर हैं। वैसे ही विचार हैं। एक विचार को प्रचारित करने की उतनी ही आवश्यकता होती है जितनी एक पौधे को पानी की आवश्यकता होती है। नहीं तो दोनों मुरझा कर मर जाएंगे।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

जीवन लंबा नहीं बल्कि महान होना चाहिए।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

जाति कोई भौतिक वस्तु नहीं है जैसे कि ईंटों की दीवार या कांटेदार तार की एक रेखा जो हिंदुओं को आपस में मिलने से रोकती है और इसलिए उसे गिराना पड़ता है। जाति एक धारणा है; यह मन की एक अवस्था है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

धर्म और दासता असंगत हैं।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

इतिहास बताता है कि जहां नैतिकता और अर्थशास्त्र में टकराव होता है, वहां जीत हमेशा अर्थशास्त्र की होती है। निहित स्वार्थों को कभी भी स्वेच्छा से खुद को विभाजित करने के लिए नहीं जाना जाता है जब तक कि उन्हें मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल न हो।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता प्राप्त नहीं करते हैं, कानून द्वारा जो भी स्वतंत्रता प्रदान की जाती है, वह आपके किसी काम की नहीं है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

यदि हम एक एकीकृत एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं तो सभी धर्मों के शास्त्रों की संप्रभुता समाप्त होनी चाहिए।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

Ambedkar Quotes in Hindi about Democracy

लोकतंत्र केवल सरकार का एक रूप नहीं है। यह मुख्य रूप से जुड़े रहने की एक विधा है, संयुक्त संप्रेषित अनुभव की। यह अनिवार्य रूप से साथी पुरुषों के प्रति सम्मान और सम्मान का रवैया है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

हमारे पास यह स्वतंत्रता किस लिए है? हमें यह स्वतंत्रता हमारी सामाजिक व्यवस्था में सुधार के लिए मिल रही है, जो असमानता, भेदभाव और अन्य चीजों से भरी है, जो हमारे मौलिक अधिकारों के साथ संघर्ष करती है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

राजनीतिक लोकतंत्र तब तक नहीं टिक सकता जब तक कि उसके आधार पर सामाजिक लोकतंत्र न हो। सामाजिक लोकतंत्र का क्या अर्थ है? इसका अर्थ है जीवन का एक तरीका जो स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व को जीवन के सिद्धांतों के रूप में मान्यता देता है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

दरअसल, मुसलमानों में हिंदुओं की सभी सामाजिक बुराइयां हैं और कुछ और। मुस्लिम महिलाओं के लिए पर्दा की अनिवार्य व्यवस्था कुछ और है। सड़कों पर चलने वाली ये बुर्का महिलाएं भारत में सबसे भयानक जगहों में से एक हैं।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

भारतीय आज दो अलग-अलग विचारधाराओं से शासित हैं। संविधान की प्रस्तावना में स्थापित उनका राजनीतिक आदर्श स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व के जीवन की पुष्टि करता है। उनके धर्म में सन्निहित उनका सामाजिक आदर्श उन्हें नकारता है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

सामान्यतया, स्मृतिकार कभी भी यह समझाने की परवाह नहीं करते कि उनके हठधर्मिता क्यों और कैसे हैं।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

मेरे विचार से, इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह गांधी युग भारत का अंधकार युग है। यह एक ऐसा युग है जिसमें लोग भविष्य में अपने आदर्शों की तलाश करने के बजाय पुरातनता की ओर लौट रहे हैं।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

लोगों और उनके धर्म को सामाजिक नैतिकता के आधार पर सामाजिक मानकों द्वारा आंका जाना चाहिए। यदि धर्म को लोगों की भलाई के लिए आवश्यक अच्छा माना जाए तो किसी अन्य मानक का कोई अर्थ नहीं होगा।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

एक आदर्श समाज गतिशील होना चाहिए, एक हिस्से में हो रहे बदलाव को दूसरे हिस्से तक पहुंचाने के लिए चैनलों से भरा होना चाहिए। एक आदर्श समाज में, कई हितों को सचेत रूप से संप्रेषित और साझा किया जाना चाहिए।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

कुछ लोग सोचते हैं कि धर्म समाज के लिए आवश्यक नहीं है। मेरा यह मत नहीं है। मैं धर्म की नींव को समाज के जीवन और प्रथाओं के लिए आवश्यक मानता हूं।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

धर्म मुख्य रूप से केवल सिद्धांतों का विषय होना चाहिए। यह नियमों की बात नहीं हो सकती। जैसे ही यह नियमों में बदल जाता है, यह एक धर्म नहीं रह जाता है, क्योंकि यह जिम्मेदारी को मार देता है जो कि सच्चे धार्मिक कार्य का एक सार है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

हिंदुओं के विभिन्न वर्गों की खान-पान की आदतों को उनके पंथों की तरह ही स्थिर और स्तरीकृत किया गया है। जिस प्रकार हिंदुओं को उनके पंथों के आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है, उसी प्रकार उन्हें उनके भोजन की आदतों के आधार पर भी वर्गीकृत किया जा सकता है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

कुछ पुरुषों का कहना है कि जाति व्यवस्था को छोड़ कर ही उन्हें अस्पृश्यता के उन्मूलन से ही संतुष्ट होना चाहिए। जाति व्यवस्था में निहित असमानताओं को समाप्त करने की कोशिश किए बिना अकेले अस्पृश्यता के उन्मूलन का उद्देश्य एक कम लक्ष्य है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

मांस खाने के खिलाफ एक वर्जना है। यह हिंदुओं को शाकाहारियों और मांस खाने वालों में विभाजित करता है। एक और वर्जना है जो बीफ खाने के खिलाफ है। यह हिंदुओं को गाय का मांस खाने वालों और नहीं करने वालों में विभाजित करता है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

ऐसा क्यों है कि अधिकांश हिंदू आपस में भोजन नहीं करते और अंतर्विवाह नहीं करते? ऐसा क्यों है कि आपका कारण लोकप्रिय नहीं है? इस प्रश्न का केवल एक ही उत्तर हो सकता है, और वह यह है कि अंतर्भोजन और अंतर्विवाह उन मान्यताओं और हठधर्मिता के प्रतिकूल हैं जिन्हें हिंदू पवित्र मानते हैं।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

शाकाहार को काफी हद तक समझा जा सकता है। मांसाहार को कोई भली-भांति समझ सकता है। लेकिन यह समझना मुश्किल है कि मांस खाने वाले व्यक्ति को एक प्रकार के मांस, अर्थात् गाय के मांस पर आपत्ति क्यों करनी चाहिए। यह एक विसंगति है जो स्पष्टीकरण की मांग करती है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

लोग जाति का पालन करने में गलत नहीं हैं। मेरे विचार से उनका धर्म गलत है, जिसने जाति की इस धारणा को जन्म दिया है। यदि यह सही है, तो जाहिर है कि आपको जाति का पालन करने वाले लोगों से नहीं, बल्कि उन शास्त्रों से जूझना होगा, जो उन्हें जाति का धर्म सिखाते हैं।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

कोई भी हिंदू समुदाय, चाहे वह कितना ही नीच क्यों न हो, गाय के मांस को नहीं छुएगा। दूसरी ओर, ऐसा कोई समुदाय नहीं है जो वास्तव में एक अछूत समुदाय है जिसका मृत गाय से कोई लेना-देना नहीं है। कोई उसका मांस खाता है, कोई उसकी खाल निकालता है, कोई उसकी त्वचा और हड्डियों से वस्तुएँ बनाता है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

जाति खराब हो सकती है। जाति आचरण को इतना घिनौना बना सकती है कि मनुष्य के प्रति मनुष्य की अमानवीयता कहलाती है। फिर भी, यह माना जाना चाहिए कि हिंदू जाति का पालन इसलिए नहीं करते हैं क्योंकि वे अमानवीय या गलत हैं। वे जाति का पालन करते हैं क्योंकि वे गहरे धार्मिक हैं।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

यदि हिन्दू समाज का पुनर्निर्माण समानता के आधार पर करना है, तो जाति व्यवस्था को समाप्त कर देना चाहिए, यह बिना कहे चला जाता है। अस्पृश्यता की जड़ें जाति व्यवस्था में हैं। वे ब्राह्मणों से जाति व्यवस्था के खिलाफ विद्रोह में उठने की उम्मीद नहीं कर सकते। इसके अलावा, हम गैर-ब्राह्मणों पर भरोसा नहीं कर सकते और उन्हें हमारी लड़ाई लड़ने के लिए नहीं कह सकते।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

राजनीतिक अत्याचार सामाजिक अत्याचार की तुलना में कुछ भी नहीं है और एक सुधारक जो समाज की अवहेलना करता है वह सरकार की अवहेलना करने वाले राजनेता से अधिक साहसी व्यक्ति होता है।

Dr. B. R. Ambedkar, author image, Dr. B. R. Ambedkar png
Dr. B. R. Ambedkar

इस ब्लॉग पोस्ट में हमने बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर के प्रेरणादायक उद्धरणों (Ambedkar Quotes in Hindi) का संग्रह किया है। उनके विचार हमें समाज में समानता और न्याय के महत्व को समझाते हैं। यहां उनके उद्धरणों का अद्भुत संग्रह है, जो हमें जीवन में सही मार्ग दिखाते हैं। आशा है कि ये उद्धरण आपको प्रेरित करें और आप भी अपने जीवन में उनके मूल्यों को अपनाएं। बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर के विचारों (Ambedkar Quotes in Hindi) में से कुछ निम्नलिखित हैं। अम्बेडकर के उद्धरण से प्रेरित होकर आप अपने जीवन को बेहतर बना सकते हैं।

50+ Swami Vivekananda Inspiring Quotes

Leave a Reply

Scroll to Top